अज्ञानता ही सब परेशानियों का कारण है

हम सब अपनी अपनी जिंदगी में किसी न किसी परेशानी, कष्टों से घिरे हुए हैं और हमेशा उस परेशानी को दूर करने के उपाय खोजा करते हैं।

किसी को पडोसी से समस्या है।

किसी को नौकरी नही मिल रही।

किसी को छोकरी नही मिल रही।

किसी के पास इतना पैसा है कि वो सम्हाल नही पा रहा है।

किसी के पास इतना भी पैसा नही कि दो वक्त की रोटी खा सके।

किसी के पास खाने को अनाज नहीं।

कोई ज्यादा खा लेने से बीमार है।

ये सब परेशानी हम सभी के जीवन में आती ही हैं, लेकिन क्या हमने कभी सोचा है कि इन सब प्रकार की परेशानियों का अंत कैसे होगा ?

“सोचा है। अजी, हम तो दिनरात इसी चिंता में घुले जा रहे हैं कि इन परेशानियों से पीछा कैसे छूटे ?लेकिन परेशानियां हैं कि ख़त्म होने का नाम ही नहीं लेतीं।”

बस यहीं पर हम गलत रास्ता पकड़ लेते हैं। हम अपनी परेशानियों के बारे में चिंता करते हैं लेकिन कभी चिंतन नही करते। अगर हम अपनी समस्याओं का चिंतन करें और उन का हल खोजें तो भला वो समस्या क्यों न दूर होगी।

अब चिंता और चिंतन में क्या फर्क है ?

चिंता

चिंता वो है कि “हाय मेरे पास ज्यादा पैसे नही हैं, अगर मुझे कुछ हो गया तो कल को मेरे बीवी बच्चों का क्या होगा ?

बच्चे कैसे पढाई करेंगे ?

उनका पालन पोषण कैसे होगा ?”

आदि भविष्य के बारे में निरर्थक बातें सोचना ही चिंता करना है।

चिंतन

“हाय मेरे पास ज्यादा पैसे नही हैं, अगर मुझे कुछ हो गया तो कल को मेरे बीवी बच्चों का क्या होगा ?

“मैं ऐसा क्या करूँ कि मेरे जाने के बाद भी बच्चों को पैसों की कोई समस्या न आये ?”

ये सोचना चिंतन करना कहलाता है।

अब इसी समस्या को ले लीजिये। अगर आप यही सोचते रहेंगे कि मेरे बाद बच्चों का क्या होगा तो आप कुछ भी हासिल नही कर पाएंगे।

अगर आप ये सोचेंगे कि मैं ऐसा क्या करूँ कि मेरे बाद भी परिवार को कोई समस्या न हो तो इसके कई जवाब आपको मिल जायेंगे। जैसे कि आप कोई भी अच्छा सा insurance plan ले सकते हैं। इससे आपको हर महीने थोड़ी थोड़ी बचत भी होगी और आप फिजूल खर्ची से भी बचोगे। आप किसी अच्छी जगह पर निवेश कर सकते हो जैसे कि Mutual Fund या SIP।

तो बात ये है कि किसी समस्या के ऊपर जब आप चिंतन करोगे तभी उसका हल आपको मिलेगा। यदि केवल चिंता करोगे तो कुछ नही हासिल होगा।

अपनी समस्या को जानिये, उस को दूर करने के बारे में किताबोंं में पढ़िए, जानकार लोगों से उचित सलाह लीजिये, internet पर खोजिए। आपको अपनी समस्या के हजारों हल मिलेंगे।

जो भी आपको उचित हल मिले उसपे अमल कीजिये। निश्चित ही आपकी समस्याएं दूर होंगी।

अब होता ये है कि हम अपनी समस्या लेके हमेशा गलत लोगों से सलाह मांगने पहुँच जाते हैं। आइये आपको कुछ उदाहरण से समझाता हूँ-

  1. एक भाई को पैसों की बड़ी कमी थी। वो दिन रात यही सोचता था कि-

“गरीबी कैसे दूर करूँ ?”

“अमीर कैसे बनूँ ?”

उसने किसी परिचित से पूछा तो उसने फलाने बाबा के दरबार का रास्ता दिखा दिया। किसी ने बोला पीर बाबा पे चादर चढ़ा दो सारे कष्ट दूर हो जायेंगे।

अब ये बताओ कि वो पीर बाबा या कोई भी बाबा किस प्रकार से किसी की गरीबी दूर कर सकता है ?

अपनी गरीबी को आप खुद ही दूर कर सकते हो।

अपने खर्चे कम कीजिये, अपनी आमदनी बढाइये, और हर दिन हर महीने कुछ न कुछ बचत कीजिये, अच्छी जगह पर निवेश कीजिये। इतने उपाय करोगे तो गरीबी क्यों न दूर होगी।

  1. एक madam जी को अपने figure को लेके बड़ी परेशानी थी। बच्चे होने के बाद उनका पेट निकल आया था। सब की देखा देखी उन्होंने भी jim जाना शुरू कर दिया लेकिन कोई फायदा नही हुआ।

मोटापे की समस्या

आजकल 70% लोगों को ये समस्या हो रही है। अगर आप भी इससे परेशान हैं तो इसके उपाय खोजिए। केवल jim जाना ही इसका उपाय नही है। इसके साथ साथ आपको और भी उपाय करने पड़ेंगे जैसे कि खाने पीने की आदतों में सुधार करना होगा। अपने calorie intake को कम करना होगा। आप जितनी calorie प्रतिदिन लेते हैं उससे ज्यादा आपको खर्च करनी पड़ेगी। सीधा सीधा गणित का हिसाब है। अगर आप प्रतिदिन ली जाने वाली calorie को खर्च नही कर पाते तो जाहिर सी बात है शरीर में मोटापा आयेगा। आप मोटापे के कारण को नष्ट कर दीजिये मोटापा अपने आप ख़त्म हो जायेगा।

  1. एक भाई को मधुमेह Diabetes की बीमारी थी। कई जगह इलाज करवा लिया लेकिन कोई फायदा नही हुआ।

मधुमेह यानि Diabetes

इसको शुगर की बीमारी भी कहते हैं। इसका मूल कारण होता है आलसी दिनचर्या व्यतीत करना, व्यायाम न करना और अधिक मीठा खाना। होता ये है कि आलसी बने रहने से जो हम मीठा खाते हैं वो शरीर में हजम नही हो पाता और शरीर में शुगर की मात्रा बढ़ जाती है। इसी को diabetes कहते हैं। इसका भी यही इलाज है कि जीभ पर नियंत्रण रखा जाए और मीठा कम से कम खाया जाए। बस इतना करने पर ही diabetes नियंत्रण में आ जाती है। केवल दवाइयाँ खाने से मधुमेह यानि diabetes ठीक नही होगी। दवाइयों के साथ साथ परहेज भी करना होगा।

इन उदाहरणो के माध्यम से मैं आपको समझाना चाहता हूँ कि किसी भी समस्या के कारण को जानना और उसको दूर करना ही उस समस्या का समाधान है। हर कार्य के पीछे कोई न कोई कारण अवश्य होता है। जब आप अपनी समस्या के पीछे छुपे कारण को जान लोगे और उसको दूर करने का प्रयास करोगे तो अपने आप ही वो समस्या दूर हो जायेगी।

अपनी अपनी समस्याओं के कारण को जानने के लिए आपको मेहनत करनी होगी। किताबें पढ़नी होंगी। internet पर खोजना होगा, जानकार लोगों से पूछना पड़ेगा तभी आपको कारण का पता चलेगा। कारण पता चलने पर उसको दूर करना होगा तभी समस्या ख़त्म होगी। जब तक हमको समस्या का कारण पता नही रहता तब तक हम अज्ञानी बने रहते हैं।

किसी चीज को न जानना ही अज्ञानता है।

यही अज्ञानता ही हमारी सभी परेशानियों का कारण होती है।

इस अज्ञानता को समाप्त कर दीजिये आपकी सारी समस्याएं जड़ से खत्म हो जाएँगी।

जब आप अपनी समस्या का कारण जान लोगे तब आप अज्ञानी से ज्ञानी हो जाओगे और आपके कष्ट दूर होंगे।

यदि हम सही दिशा में प्रयास करेंगे तभी मंजिल तक पहुँचेंगे। आपको जाना है कलकत्ता, आप चढ़ गए मुम्बई वाली ट्रेन में तो क्या कभी कलकत्ता पहुंचोगे ? नहीं न। इसी प्रकार आपकी समस्या के हल की दिशा में प्रयास करोगे तभी सफलता मिलेगी।

Advertisements

गरीबी के कारण करते थे चोरी, आज है superstar The Rock पढ़िये सुपरस्टार ‘द रॉक’ की जीवनी The Biography of superstar Wrestler : The Rock (Dwayne Douglas Johnson)

नाम तो सुना ही होगा आपने,

The Rock (Dwayne Douglas Johnson)


कई बार TV पर ring में fight करते हुये भी देखा होगा और आजकल कई movie में भी देखा होगा। इनकी कुछ famous movie के नाम हैं-

  1. Baywatch 2017

  2. Central Intelligence 2016

  3. Moana 2016

  4. Hercules

  5. The Mummy Returns

  6. Fast and Furious series आदि

इन्होंने कई TV Show में भी काम किया है

  1. WWE Raw (since 1993)

  2. WWE Smackdown ( since 1999)

  3. Ballers (since 2015) आदि

‘द रॉक’ जिनका असली नाम Dwayne Douglas Johnson है, का जन्म 2 मई 1972 को Hayward, California (U.S.) में हुआ था। इनके पिता का नाम ROCKY JOHNSON था । इनके पिता भी WWF (उस समय WWE को ही WWF कहते थे) WRESTLER थे।

लेकिन इनके परिवार की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं थी। बचपन से ही Dwayne Douglas Johnson गलत संगत में पड़ गये और पैसे कमाने के लिये आसान रास्ता ढूंढने के चक्कर में चोरी करने लगे। जब ये 14 वर्ष के थे तब इनका परिवार होनोलूलू Honolulu में रहने लगा। होनोलूलू में पर्यटक tourist खूब आते हैं इसलिए इन्होंने अपने दोस्तों के साथ मिलकर tourists को निशाना बनाया और चोरियां करने लगे। इसी कारण ये कई बार police द्वारा पकडे भी गये।

बाद में इन्होंने सोचा कि अपनी मेहनत करके ही पैसा कमाया जा सकता है तो इन्होंने चोरी करना छोड़ दिया और college में football team का हिस्सा बन गये। यहां भी किस्मत ने साथ नही दिया और कमर की चोट की वजह से इनको team से निकाल दिया गया।

“मेरे सपने चूर हो गये। No More Football.

वो समय सच में बड़ा कठिन समय था।” वो बताते हैं।

निराश होकर Dwayne Douglas Johnson भयंकर depression में चले गये।

“ऐसा कौन सा काम है जो मैं बहुत अच्छे से कर सकता हूँ ?” इन्होंने अपने आप से पूछा। अंदर से आवाज आई “तुमको वही काम करना चाहिए जिसके लिए तुम बने हो यानि Body Building और Wrestling”

अच्छी height और weight होने के कारण johnson ने अपने अंदर की आवाज को सुना और बस उसी दिन से इन्होंने WWF (इसको आजकल WWE कहते हैं) में जाने का फैसला किया।

WWE में आने के बाद इन्होंने एक के बाद एक कई fights जीतीं और लोगों का चहेता चेहरा बन गये। Ring में आने के बाद ही इन्होंने अपना नाम ‘The Rock’ रख लिया। इनको ‘The People’s Champion’ भी बोलते हैं। इन्होंने WWF का heavyweight title 6 बार अपने नाम किया है।

कई सारी उपलब्धियों के बाद Dwayne Douglas Johnson ने films की तरफ रुख किया।

पहली film 2001 में आई ‘The Mummy Returns’ जिसमे इनके काम की तारीफ़ की गयी। इसके बाद तो यह सिलसिला चलता ही गया।

The Scorpian King

Fast and Furious Series

Hercules

आदि बहुत सी movies हैं।

इन्होंने कई TV Shows में भी काम किया है।

अपनी मेहनत के दम पर आज Dwayne Douglas Johnson, Hollywood film industry के बड़े superstar में गिने जाते हैं। लोग इनकी tough body और cute smile के दीवाने हैं। ये सब Dwayne Douglas Johnson के द्वारा की गयी कड़ी मेहनत का ही नतीजा है।

Image source: internet

Know the history of Bombay Bomb Blast जानिये बॉम्बे बम ब्लास्ट का इतिहास

क्या हुआ था मुम्बई में 12 मार्च 1993 को

तारीख- 12 मार्च 1993

दिन- शुक्रवार

स्थान- मुम्बई शहर

समय- दोपहर के 1:30 से 3:30 तक

लगातार एक के बाद एक पूरे 12 बम धमाकों से दहल उठा मुम्बई शहर। पूरे संसार में यह अपने आप में पहला ऐसा मामला था जहां इतनी बड़ी मात्रा में serial bomb blast हुए और इतनी अधिक संख्या में लोग मारे गये और घायल हुए। सरकारी सूत्रों के अनुसार 257 लोग मारे गये और 717 लोग घायल हुए। ये धमाके मुम्बई शहर के अलग अलग जगहों पर कुछ ही समय अंतराल में हुए। इन धमाकों में अधिकतर जगहों पर Car और Scooter में विस्फोटक पदार्थ रखकर blast किया गया था। Continue reading “Know the history of Bombay Bomb Blast जानिये बॉम्बे बम ब्लास्ट का इतिहास”

दशरथ माँझी (DASHRATH MANJHI): THE MOUNTAIN MAN

पढ़िए दशरथ माँझी की एक साधारण मजदूर से लेकर Mountain Man बनने की साहसपूर्ण कहानी

दशरथ माँझी का नाम तो आप सभी लोगों ने अवश्य ही सुना होगा। इनका जन्म गया (बिहार) जिले के छोटे से गाँव गहलौर में हुआ था। इनके माता पिता काफी गरीब थे और मजदूरी करते थे। कुछ लोगों का कहना है कि इनके पिता की मृत्यु भूख की वजह से हुई थी। बड़े होने पर इन्होंने भी मजदूरी करके अपने परिवार का पालन पोषण करना शुरू किया।

सोचिये जरा, एक साधारण सा गरीब मजदूर, उसने ऐसा क्या काम कर दिया कि उसको Mountain Man का खिताब मिला Continue reading “दशरथ माँझी (DASHRATH MANJHI): THE MOUNTAIN MAN”

jeevan me safal hone ke liye apnaaye CHANAKYA NEETI जीवन में सफल होने के लिए अपनाएँ चाणक्य नीति

जीवन में सफलता पाने के लिए हम सब को कुछ नीतियाँ POLICIES अपनानी पड़ती हैं जिनका सख्ती के साथ पालन करके ही हम अपने जीवन में सफलता का स्वाद चख सकते हैं। इसी प्रकार की कुछ नीतियाँ महान अर्थशास्त्री गुरु चाणक्य ने ‘चाणक्य नीति’ में बतायी हैं।

Chankya

Continue reading “jeevan me safal hone ke liye apnaaye CHANAKYA NEETI जीवन में सफल होने के लिए अपनाएँ चाणक्य नीति”

ब्रूस ली के प्रेरणादायक विचार हिंदी में BRUCE LEE MOTIVATIONAL QUOTES IN HINDI

Bruce Lee

अपने समय के जाने माने प्रसिद्ध Martial Art Champion और अभिनेता ACTOR थे।
inext_t_sc_sachin_brucelee.jpg

नीचे पढ़िए ब्रूस ली के अनमोल विचार हिंदी में

Bruce Lee Motivational quotes in hindi

Continue reading “ब्रूस ली के प्रेरणादायक विचार हिंदी में BRUCE LEE MOTIVATIONAL QUOTES IN HINDI”

शायरी : दिल 💕 की आवाज

अगर एतबार नही हम पर,

तो दिखाते क्यू नहीं ?

कबूलनामा इश्क का,

हमसे लिखाते क्यू नहीं ?

कहते हैं हमें इश्क करना नहीं आता,

तुम्हें तो प्यार है,

फिर हमें सिखाते क्यू नहीं

😊😊😊😊😊

BY- Ashish

PARISRAM KE BINA SAFALATAA NHI परिश्रम के बिना सफलता नही

PARISRAM KE BINA SAFALATAA NHI परिश्रम के बिना सफलता नही
एक बार एक देश के राजा पर पडौसी देश ने आक्रमण कर दिया। राजा वह लडाई हार गया। उस राजा ने लडाई का मैदान छोड़ कर पहाड़ों की शरण ली। निराश, हताश वह पहाड़ों की गुफाओं में लेटा था। तभी उसका ध्यान एक मकडी पर गया।……

VERMAJIKABLOG

एक बार एक देश के राजा पर पडौसी देश ने आक्रमण कर दिया। राजा वह लडाई हार गया। उस राजा ने लडाई का मैदान छोड़ कर पहाड़ों की शरण ली। निराश, हताश वह पहाड़ों की गुफाओं में लेटा था। तभी उसका ध्यान एक मकडी पर गया।

The-story-King-Bruce-and-Spider

View original post 207 more words

तलाक एक प्रेम कथा

**तलाक**

एक प्रेम कथा

हुआ यों कि पति ने पत्नी को किसी बात पर तीन थप्पड़ जड़ दिए, पत्नी ने इसके जवाब में अपना सैंडिल पति की तरफ़ फेंका, सैंडिल का एक सिरा पति के सिर को छूता हुआ निकल गया। मामला रफा-दफा हो भी जाता, लेकिन पति ने इसे अपनी तौहीन समझी, रिश्तेदारों ने मामला और पेचीदा बना दिया, न सिर्फ़ पेचीदा बल्कि संगीन, सब रिश्तेदारों ने इसे खानदान की नाक कटना कहा, यह भी कहा कि पति को सैडिल मारने वाली औरत न वफादार होती है न पतिव्रता। Continue reading “तलाक एक प्रेम कथा”